blogid : 17035 postid : 672468

Top of 2013 – चेहरे जो विवादों में रहे

Posted On: 18 Dec, 2013 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Most controversial personalities 2013

साल 2013 अपने आखिरी दौर में है. इससे विदाई लेते हुए पीछे मुड़कर एक आखिरी झलक लेते हैं तो 365 दिनों के लंबे रास्ते पर हर साल की तरह इस साल ने भी बहुत कुछ खोया, बहुत कुछ पाया. 2012 जहां दामिनी बलात्कार कांड के साथ सहमा हुआ सा 2013 लेकर आया था वहीं इस साल ने अर्थव्यवस्था से लेकर राजनीति तक हर जगह नए कीर्तिमान गढ़े. सहमी हुई शुरुआत की तरह ही इस आखिरी झलक में भी पूरा साल सहमा हुआ ही नजर आता है. रुपए के गिरने से लेकर यूपीए सरकार के ताबड़तोड़ भ्रष्टाचार के घोटाले और आप पार्टी का राजनीति में एक सशक्त नया विकल्प बनकर उभरना हर बात कहीं महत्वपूर्ण रही जो भविष्य में नई दिशा निर्धारित करने का माद्दा रखती है. कई नए महत्वपूर्ण कानून बने, कई मामलों में कोर्ट के महत्वपूर्ण फैसले आए. हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट लोकतंत्र में समाज के नए पथप्रदर्शक की महत्वपूर्ण भूमिका में नजर आए. इस तरह हर दृष्टि से कहीं न कहीं यह साल विवादों के साथ कई नए मील का पत्थर बदलाव लेकर आया जो भविष्य के लिए भी कई संभावनाएं बना रहे हैं और जिससे आने वाला साल भी बहुत गहरा जुड़ा होगा. एक नजर इन खबरों से जुड़े कुछ चर्चित विवादित चेहरों पर:


शशि थरूर

विवादास्पद और खुले विचारों के लिए पहचाने जाने वाले कभी कांग्रेस में केंद्रीय मंत्री रहे शशि थरूर दिल्ली में 16 दिसंबर को सामूहिक बलात्कार की शिकार हुई महिला के नाम को लेकर सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर अपने एक विवादास्पद ट्वीट (‘बलात्कार पीड़िता का नाम छिपाए रखने से आख़िर क्या हासिल हो रहा है? क्यों न उनका नाम बताकर उनका एक वास्तविक व्यक्ति की तरह सम्मान किया जाए, जिसकी अपनी पहचान है’), को लेकर चर्चा में रहे. सामाजिक कार्यकर्ता किरण बेदी, फिल्म अभिनेता अनुपम खेर ने उनका समर्थन किया था.


ओमप्रकाश चौटाला

तीन हजार से अधिक शिक्षकों की अवैध भर्ती के मामले में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला, उनके बेटे अजय चौटाला को 10 साल कैद की सजा सुनाई गई. ओमप्रकाश चौटाला हरियाणा के सक्रिय तथा बड़े नेताओं में माने जाते थे और हरियाणा में उनका दबदबा माना जाता था.


ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी जनवरी में केंद्र सरकार द्वारा पश्चिम बंगाल को आर्थिक पैकेज न दिए जाने पर दिए अपने बयान में ‘पीएम को मारने’ का जिक्र करने पर विवादों में रहीं. (‘ममता ने कहा, 2011-12 में मैं आर्थिक पैकेज के लिए पीएम से मिली, अब मैं क्या करूं? क्या मैं पीएम को मारूं?’)


राजनाथ सिंह

बीजेपी के संसदीय बोर्ड ने पार्टी के नए अध्यक्ष के रूप में राजनाथ सिंह के नाम को मंजूरी दी. पूर्ति कंपनी फर्जीवाड़ा मामले के आरोपों के कारण अध्यक्ष पद से नितिन गडकरी के हटने के बाद श्री राजनाथ निर्विरोध रूप से बीजेपी के अध्यक्ष चुने गए.


आशीष नंदी

जयपुर साहित्य महोत्सव में देश में बढ़ रहे भ्रष्टाचार पर विवादित बयान को लेकर समाजशास्त्री आशीष नंदी पर एफआईआर तक दर्ज करा दी गई. आशीष नंदी ने कहा था “यह कहना बहुत अशोभनीय और घिनौना होगा लेकिन तथ्य यही है कि सबसे अधिक भ्रष्ट लोगों में ओबीसी, अनुसूचित जाति या जनजाति के लोगों की संख्या बढ़ रही है. जब तक ये होगा तब तक मुझे अपने गणतंत्र से उम्मीद है.’’ इसे दलित समाज से जुड़े राजनेताओं ने अपना अपमान समझा और उन पर एफआईआर दर्ज कराई गई.


अफजल गुरु

संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को 9 फरवरी, 2013 को सुबह आठ बजे तिहाड़ के तीन नंबर जेल में फांसी दी गई. जेल में पूरे इस्लामिक रीतिरिवाज के साथ उसे दफना दिया गया.


रंजीत सिन्हा

सीबीआई निदेशक रंजीत सिन्हा कोल आवंटन और 2जी मामले में सरकार से रिपोर्ट साझा करने को लेकर चर्चा में रहे.


सुदीप्तो सेन

शारदा के मालिक और शारदा चिट फंड घोटाले के मुख्य आरोपी सुदीप्तो सेन ने पश्चिम बंगाल की सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के 22 नेताओं पर पैसे बनाने के लिये उनका इस्तेमाल करने का आरोप लगाया. सेन ने दावा किया कि खास तौर पर तृणमूल के नेता और राज्यसभा सांसद कुणाल घोष और संजय बोस द्वारा उन्हें ब्लैकमेल किया जाता था और शारदा रियल्टी की तरफ से हर माह उन्हें 80 लाख रु. दिये जाते थे.


पीसी चाको

ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के आधिकारिक प्रवक्ता और 2-जी स्पेक्ट्रम आवंटन घोटाले की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) के अध्यक्ष पीसी चाको 2-जी स्पेक्ट्रम आवंटन घोटाले में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और वित्त मंत्री पी चिदंबरम को क्लीन चिट देने के मामले में विवादों में रहे. गैर-कांग्रेसी दलों के सांसदों ने मीरा कुमार से मिलकर 2-जी पर बने जेपीसी के अध्यक्ष पीसी चाको को हटाने की मांग की.


सरबजीत सिंह

1990 में लाहौर और फैसलाबाद में हुए सीरियल ब्लास्ट में पाकिस्तानी कोर्ट द्वारा सरबजीत को दोषी मानते हुए उसे फांसी की सजा सुनाने के बाद पाकिस्तान के कोट लखपत जेल में कैदियों के हमले में गंभीर रूप से घायल होकर सरबजीत कोमा में चले गए और अंतत: उनकी मौत हो गई.


सज्जन कुमार

1984 के सिख विरोधी दंगों के एक केस से सज्जन कुमार को दिल्ली की कड़कड़ड़ूमा अदालत ने बरी कर दिया. बाहरी दिल्ली से सांसद रहे कांग्रेस के नेता सज्जन कुमार 1984 में अपने सिख अंगरक्षकों के हाथों तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के हत्याकांड के बाद चर्चा में आए थे. इसके बाद देश में हुए सिख विरोधी दंगों में 11 हजार सिख मारे गए. अकेले दिल्ली में दंगाइयों ने 4 हजार सिखों को मार डाला था. सज्जन कुमार पर आरोप थे कि उन्होंने 84 के दंगों में सिखों की हत्या, सांप्रदायिक हिंसा फैलाने और लोगों को दंगों के लिए उकसाया था.


सनाउल्लाह

पाकिस्तान के दलुवाली का रहने वाला सनाउल्लाह पाकिस्तान का एक आतंकवादी था. सनाउल्लाह को 16 जुलाई, 1994 को भी मीरां साहिब से आ रही मिनी बस में सतवारी के पास बम ब्लास्ट करने के आरोप में 17 साल की सजा सुनाई गई थी जिसे बाद में आजीवन कारावास में बदल दिया गया था. इस ब्लास्ट में 10 लोग मारे गए थे.


1999 में उसे कोट भलवाल जेल लाया गया था. उसके ऊपर 302, 304, 494 और हत्या के अलावा अन्य धाराओं के तहत आठ केस दर्ज था. मई 2013 में भारतीय कैदी सरबजीत सिंह की पाकिस्तान के एक अस्पताल में कैदियों द्वारा हमले के कारण मौत के विरोध में सनाउल्लाह पर जम्मू की कोट भलवाल जेल में कैदियों द्वारा हमला कर दिया गया था. हमले में गंभीर रूप से घायल सनाउल्लाह की अस्पताल में मौत हो गई.

क्रमश:



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

krishan के द्वारा
December 18, 2013

self interest the best interest. This is going on for the last 30 years in politics.


topic of the week



latest from jagran